और ग्‍लूकोमा ने मेरे जीवन को अपने चंगुल में जकड़ लिया – दिव्‍या शर्मा